सरसत्ती माता…विद्या दाता…. Feb10

सरसत्ती माता…व...

कॉलेज से निकलते निकलते ना जाने कब सरस्वती जी का क्रेज ख़त्म हो गया और हम लक्ष्मी पूजनोत्सव के पंडित हो गये | अब तो ऐसा दिन आ गया है कि बसंत पंचमी का एहसास पड़ोस के मोहल्ले में डीजे गानों की आवाज सुनकर पता चलता है….जब पडोसी को पूछते हैं की किसी की शादी है क्या ? ‘नहीं, सरस्वती पूजा है ना...

गुप्तगू Feb03

गुप्तगू...

मैं सब देखता हूँ तुम दोनों मकई के खेत में सरसों की आड़ लेकर क्या गुप्तगू करते रहते हो….कभी आम के पेड़ पर, कभी अरहर में छुपकर….कल तो तुमने हद ही कर दी थी जब तुम गन्ने के खेत में आशिकी फरमा रहे थे….माना मैं सड़क किनारे खड़ा होकर गेहूँ की रखवाली कर रहा…पर मेरी नज़र बहुत तेज...

Home Page