सर्वाधिक किताब पढने वाले पाठकों को मिलेगा ‘पंडित श्यामंनद झा स्मृति पाठक’ सम्मान Jul27

सर्वाधिक किताब पढने वाले पाठकों को मिलेगा ‘पंडित श...

सर्वाधिक किताब पढने वाले पाठकों को मिलेगा ‘पंडित श्यामंनद झा स्मृति पाठक’ सम्मान संस्कृत में एक कहावत है – स्वदेशे पूज्यते राजा विद्वान सर्वत्र पूज्यते | विद्वानों की सर्वत्र पूजा होती है | हमारे यहाँ लेखकों को सबसे बड़ा विद्वान माना जाता है | और लेखक सर्वाधिक सम्मानित भी होते हैं | मिथिला एक ऐसी उपजाऊ पावन भूमि है जहाँ अनादि काल से महान लेखकों का जन्म होता रहा है | जब कोई पोथी प्रकाशित होती है तो लेखक का सामाजिक मान-सम्मान बढ़ता है, प्रकाशक को आर्थिक लाभ प्राप्त होता है, परंच पाठक को ? पाठक सदा अज्ञात रह जाता है | वर्तमान समय और परिवेश के आधुनिकीकरण में पाठकों का समुदाय विलुप्त सा हो गया है, लोग अपने काम मात्र की जानकारी इन्टरनेट पर खोजकर...

चंपारण के खेत-खलिहान और बीहड़ों से Jul05

चंपारण के खेत-खलिहान...

चंपारण के खेत-खलिहान और बीहड़ों से पिछले ५ दिन से चंपारण में था, परसों पटना लौटा | पूर्वी और पश्चिमी चंपारण के अलग अलग प्रखंडों के तक़रीबन १५-२० गाँवों में किसानों से मिला | बहुत कुछ सिखने समझने को मिला | यहाँ गाँवों की स्थिति आज भी काफ़ी बुरी है, खासकर के जो गाँव जिला मुख्यालय से दूर है | कई...

गाँव की बात Jul03

गाँव की बात...

खलिहान से लाइव कल चोरमा गाँव से गुजर रहा था तो महिलाओं की टोली खेत की पगडंडियों पर सर पर छोटी-छोटी टोकरी लिए गाना गाते हुए चली आ रही थी | उत्सुकता हुई, रूककर पूछा | “माटी लेकर आ रहे हैं साहब, इस माटी से चूल्हा बनेगा और भीत को लिपेंगे….भीत समझते हैं ना ? कच्चा घर” आज अधिकांश घर गाँव में...

Home Page