अगलगी में खलिहान राख Apr14

Tags

Related Posts

Share This

अगलगी में खलिहान राख

खलिहान से लाइव

आज खलिहान से एक बुरी खबर है | नालंदा जिले के हिलसा प्रखंड में हमारे साथ तक़रीबन ५०० किसान परिवार जुड़े हुए हैं | रबी की फसल सब की तैयार हो गयी है पर भंडारण की कोई व्यवस्था है नही तो सबका फसल अभी खलिहान में ही रखा रहता है | अधिकांश लोगों के पास अपनी जमीन नहीं है, पट्टे पर जमीन लेकर खेती करते हैं | छोटे और सीमांत किसान हैं | कल शाम सिपारा गाँव में एक खलिहान में आग लग गयी और जब तक आग पर काबू पाया जाता हमारे कुछ किसानों का गेहूं, सरसों, राय, मसूर राख हो चुका था | रात के ११ बजे रोते-बिलखते हुए अवधेश जी ने फ़ोन किया सर मैं बर्बाद हो गया…| मेरी आवाज गले में बंध गयी, कोई शब्द नही मिल रहे थे की उनको सांत्वना देता |

सुबह-सुबह हमारी टीम सिपारा तो पहुँच गयी पर उनके परिवार को ढांढस बनाने में अपना ही ढांढस टूट जा रहा है | घटना अखबारों की सुर्खियाँ बन चुकी है पर सहारे देने को फ़िलहाल कोई नही है | आज चूल्हे-चौके सब बंद है | निगाह सिर्फ खलिहान पर लगी है, यकीं नही हो रहा की जो सपने देखे थे वो आज राख हो चुका है, अब यजमान का सूद कैसे चुकायेंगे ? बेटी की पढाई का खर्चा कैसे भेजेंगे ? अगली फसल लगाने के लिए अब कर्ज कौन देगा ?

नुकसान का व्योरा इस प्रकार है-

अवधेश कुमार- ५ बीघे का गेहूँ, १० मन सरसों, ५ मन राय, २ बीघे का मसूर, एक मोटर और थ्रेशर

योगेन्द्र कुमार- ६ बीघे का गेहूँ, ५ मन सरसों, ३ मन राय

मोहन पासवान- ३ बीघे का गेहूँ, १ बीघे का सरसों, १० कट्ठे का राय

धर्मवीर यादव- ३ बीघे का गेहूँ, १ बीघा का सरसों, १० कठ्ठे का राय

जगदेव गोप- ४ बीघे का गेहूँ, २ बीघे का खेसारी, २ बीघे का सरसों, ३ बीघे का मसूर

छोटेलाल यादव- ३ बीघे का गेहूँ, १५ मन सरसों, १२ मन राय

शिशुपाल गोप- ४ बीघे का गेहूँ, १० मन सरसों, १० मन राय

सिया गोप- ३ बीघे का गेहूँ, १० मन सरसों, १० मन राय

कपिल महतो- ३ बीघे का गेहूँ, २ बीघे का मंगरैला, ५ मन राय, ५ एचपी का मोटर, थ्रेशर,

देवानंद महतो- १ बीघे का मसूर, ३ पुवाल का टाल, मेवाड़ी